Friday, June 26, 2015

शहरवाली समाज को जोड़ें मुर्शिदाबाद के जैन

श्री सम्भवनाथ मंदिर, अजीमगंज

 मुर्शिदाबाद खास कर अजीमगंज एवं जियागंज के श्वेताम्बर जैन (ओसवाल) शहरवाली समाज के रूप में दुनिया भर में प्रसिद्ध हैं.  नवाब मुर्शीद कुली खां के समय से ही यहाँ का वैभव, संस्कृति, धर्मनिष्ठा पुरे भारत में अनुकरणीय रही है. कालक्रम से इन शहरों का वैभव भी नष्ट हुआ एवं १९५४ के जमींदारी उन्मूलन कानून के बाद यहाँ का शहरवाली समाज मुर्शिदाबाद छोड़ कर जाने को मज़बूर होने लगा. आज इन षदोनो शहरों अजीमगंज व जियागंज का वैभव खंडहरों में बस कर नामशेष रह गया है।

आज इस समाज के अधिकांश लोग इन दोनों शहरों से बहार रहने लगे हैं. ख़ुशी की बात ये है शहरवाली समाज के लोग विश्व के भिन्न भिन्न स्थानो में रहते हुए वहां पर भी अपनी छाप छोड़ रहे हैं. आज भी शहरवाली समाज का अधिकांश भाग कोल्कता शहर में रहता है परन्तु अन्य स्थानो में रहने वालों की भी कोई कमी नहीं है. मैंने इस ब्लॉग के माध्यम से उन लोगों को जोड़ने का एक छोटा सा प्रयास किया है और विभिन्न स्थानो में रहनेवाले समाज के लोगों का स्थानवार विवरण भी दिया है।  परन्तु यह प्रयास अभी अधूरा है और अभी भी ऐसे लोग बहुत हैं जिनके बारे में मुझे पता नहीं होने से उनके बारे में लिखना संभव नहीं हो सका है।

अतः आप सभी से निवेदन है की इस सम्वन्ध में आपको कोई भी जानकारी हो तो मुझे देने की कृपा करें जिससे उन्हें भी इस ब्लॉग के माध्यम से जोड़ा जा सके. आपका यह सहयोग पुरे समाज को जोड़े रखने में सहायक होगा। इसके साथ ही शहरवाली समाज की ऐतिहासिक सामग्री, फोटो, दस्तावेज एवं समाचार भी भेजने का कष्ट करें जिससे इस ब्लॉग को पढ़नेवालों तक यह जानकारी पहुंच सके.

Thanks,
(Vardhaman Gems, Jaipur represents Centuries Old Tradition of Excellence in Gems and Jewelry)
info@vardhamangems.com
Please follow us on facebook for latest updates.

allvoices